रंग सिद्धांत के मूल सिद्धांत

Notice: Undefined index: margin_above in /var/www/wp-content/plugins/ultimate-social-media-icons/libs/controllers/sfsiocns_OnPosts.php on line 440

Notice: Undefined index: margin_below in /var/www/wp-content/plugins/ultimate-social-media-icons/libs/controllers/sfsiocns_OnPosts.php on line 441
Deprecated: Elementor\Scheme_Typography is deprecated since version 2.8.0! Use Elementor\Core\Schemes\Typography instead. in /var/www/wp-includes/functions.php on line 5513
data-elementor-type="wp-post" data-elementor-id="4135" class="elementor elementor-4135" data-elementor-settings="[]">

आज हम इस पोस्ट में रंग सिद्धांत के मूल सिद्धांत को समझने की कोशिश करेंगे अगर हम कलर थ्योरी के इन पहलुओं को समझ लेते हैं तो अलग सॉफ्टवेयर में कलर ग्रेडिंग करने में आपको सहायता मिलेगी।

नमस्कार दोस्तों,

रंग सिद्धांत या कलर थ्योरी क्या है? 

 रंग सिद्धांत हमें समझाता है कि हम रंगों का उपयोग किस तरह कर सकते हैं, यह एक प्रकार से विज्ञान और कला का मिश्रण है। रंग सिद्धांत के माध्यम से  हम यह समझ सकते हैं कि हम मनुष्य  रंगों को कैसे समझते हैं; और विभिन्न प्रकार के रंग एक दूसरे के साथ कैसे मिलते हैं, मेल खाते हैं या कौन-कौन से रंग एक दूसरे के विपरीत हैं।

हम रंग सिद्धांत में रंगों को कैसे व्यवस्थित करते हैं?

हम रंग सिद्धांत मैं विभिन्न प्रकार के रंगों को व्यवस्थित करने के लिए कलर व्हील का सहारा लेते हैं, प्रसिद्ध गणितज्ञ सर आइजैक न्यूटन ने पहले रंग के पहिये (Color wheel) का आविष्कार किया था। प्रिज्म से परावर्तित होने वाले सफेद प्रकाश का अध्ययन करते हुए, उन्होंने देखा कि प्रकाश रंगों के एक स्पेक्ट्रम को दर्शाता है, और उसी के बाद कलर भी का जन्म हुआ।

Color wheel

कलर व्हील में तीन विभिन्न प्रकार के रंग होते हैं और उन्हें 3 श्रेणियों में बांटा गया है जो हैं प्राथमिक रंग, द्वितीयक रंग और तृतीयक रंग।  प्राथमिक रंग में पीला, हरा और नीला रंग आते हैं जबकि द्वितीयक  रंगों की श्रेणी में नारंगी, बैंगनी और हरा रंग आता है यह सारे रंग प्राथमिक रंगों के मिश्रण से ही बनते हैं और अब हम जान लेते हैं कि हमारा तीसरा श्रेणी जिनके रंगों को हम तृतीयक रंग कहते हैं कौन-कौन से हैं  यह सारे रंग प्राथमिक और द्वितीयक रंगों के मिश्रण से ही बनते हैं  लाल-नारंगी, पीला-नारंगी, पीला-हरा, नीला-हरा, नीला-बैंगनी और लाल-बैंगनी। अगर आप कलर व्हील के बारे में और अधिक जानकारी चाहते हैं तो आप हमारी इस पोस्ट को जरूर पढ़ें, लिंक यहां पर दिया गया है  कलर व्हील क्या है और  इसे किस प्रकार से इस्तेमाल करते हैं तो चलिए अब हम जान लेते हैं विभिन्न प्रकार के कौन-कौन से कलर सिस्टम मौजूद हैं।

विभिन्न प्रकार की रंग प्रणाली कौन से हैं?

 हम मुख्यत: दो प्रकार के रंग प्रणाली को इस्तेमाल करते हैं वह है आरजीबी (RGB) और सीएमवाईके (CMYK) आरजीबी कलर प्रणाली को हम इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों में इस्तेमाल करते हैं जैसे कि आपका मोबाइल फोन, टीवी, लैपटॉप या आईपैड इन सबके डिस्प्ले स्क्रीन आरजीबी रंग प्रणाली का पालन करती है इस रंग प्रणाली में तीन प्रकार के प्रमुख रंग होते हैं वह हैं लाल (आर), हेम (जी) और ब्लू (बी), हम इस रंग प्रणाली को योगात्मक रंग (Additive colors)  प्रणाली कहते हैं क्योंकि इस प्रणाली में काले रंग में रंगीन रोशनी जोड़कर एडिटिव रंग बनाए जाते हैं। 

RGB रंग प्रणाली
CMYK रंग प्रणाली

और अब हम समझ लेते हैं सीएमवाईके (CMYK) रंग प्रणाली को इस प्रणाली में  सियान (सी), मैजेंटा (एम), पीला (वाई), और काला (के) प्रमुख रंग होते हैं और  इन रंगों के सहारे हम बाकी रंगों को प्राप्त करते हैं यह प्रणाली हम  सभी प्रकार के प्रिंटिंग टेक्नोलॉजी में इस्तेमाल करते हैं जैसे कि आप अपने समाचार पत्र, किताबें, उत्पाद पैकेजिंग या बड़े-बड़े साइन बोर्ड  मैं देख सकते हैं, घटाव रंग (subtractive colors) प्रणाली कहते हैं क्योंकि सब्सट्रैक्टिव रंग कुछ प्रकाश तरंग दैर्ध्य को पूरी तरह या आंशिक रूप से अवशोषित (या घटाकर) और दूसरों को प्रतिबिंबित करके बनाए जाते हैं। सब्सट्रैक्टिव रंग सफेद के रूप में शुरू होते हैं।

कलर हर्मनी या रंग सद्भाव क्या है?

कलर हर्मनी  के माध्यम से हम यह समझ सकते हैं कि कलर व्हील में कौन-कौन से कलर एक दूसरे के साथ मेल खाते हैं अगर आप कलर हर्मनी   को समझ लेते हैं तो आपको अपने वीडियो या फोटोग्राफ्स को कलर ग्रेडिंग करने में बहुत आसानी होगी, रंग सद्भाव के लिए कुछ सूत्र मैं तीन प्रकार के रंग होते हैं

पूरक ( कंप्लीमेंट्री) रंग कोई भी दो रंग हैं जो एक दूसरे के सीधे विपरीत होते हैं, जैसे लाल और हरा और लाल-बैंगनी और पीला-हरा।

complementary color in color wheel

अनुरूप (एनालॉग) रंग कोई भी तीन रंग होते हैं जो 12-भाग वाले कलर व्हील पर अगल-बगल होते हैं, जैसे कि पीला-हरा, पीला और पीला-नारंगी। 

अनुरूप (एनालॉग) रंग

त्रैमासिक (ड्राइंग) रंग एक त्रैमासिक रंग योजना में तीन रंग शामिल होते हैं जो समान रूप से रंग के पहिये पर होते हैं।

त्रैमासिक (ड्राइंग) रंग

अगर आप चाहे तो हमारी यूट्यूब चैनल  फोटो वर्ल्ड प्रो मैं पब्लिश किया गया इस वीडियो को भी देख सकते हैं जिसमें हमने कलर थ्योरी के बारे में विस्तार से बताया है।

मैं उम्मीद करता हूं कि आपको इस पोस्ट के माध्यम से कलर थ्योरी के बारे में समझने में आसानी हुई होगी,  इस पोस्ट के विषय से संबंधित अगर कोई प्रश्न है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में कमेंट लिख सकते हैं,  हमारे YouTube चैनल है चाहे तो आप फोटोग्राफी व वीडियोग्राफी से संबंधित विषयों के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

धन्यवाद 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error

अगर ब्लॉग आप को अच्छी लगी तो ज़रूर इसे अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर के साथ शेयर करें.

error: सामग्री संरक्षित है !! (Content is protected !!)