कैमरे में विभिन्न प्रकार के मोड कौन से होते हैं

Notice: Undefined index: margin_above in /var/www/wp-content/plugins/ultimate-social-media-icons/libs/controllers/sfsiocns_OnPosts.php on line 440

Notice: Undefined index: margin_below in /var/www/wp-content/plugins/ultimate-social-media-icons/libs/controllers/sfsiocns_OnPosts.php on line 441
Deprecated: File Elementor\Scheme_Typography is deprecated since version 2.8.0! Use Elementor\Core\Schemes\Typography instead. in /var/www/wp-includes/functions.php on line 5569
data-elementor-type="wp-post" data-elementor-id="4047" class="elementor elementor-4047" data-elementor-settings="[]">

DSLR या Mirrorless कैमरा में कौन-कौन सी मोड मौजूद होते हैं और इन की क्या विशेषताएं हैं इस पोस्ट के माध्यम से जान लेते हैं।

 DSLR या Mirrorless कैमरा में विभिन्न प्रकार के मोड होते हैं जिन्हें आप इस्तेमाल करके अपनी फोटोग्राफी कर सकते हैं, हम दिए गए मोड को तीन भागों में विभाजित कर सकते हैं पहला ऑटो मोड ( ऑटो, प्रोग्राम)  दूसरा सेमी ऑटो (एपर्चर प्राथमिकता और शटर प्राथमिकता) और तीसरा मैनुअल मोड,  इन तीनों  मोड को समझने के लिए हमें पहले DSLR या Mirrorless  कैमरा के तीन महत्वपूर्ण तत्व जो Aperture, Shutter speed और ISO को समझना जरूरी है, जिन्हें फोटोग्राफी में एक्सपोजर ट्रायंगल कहा जाता है यहां एक फोटोग्राफी के महत्वपूर्ण  सिद्धांतों में से एक है जिसके माध्यम से आप अपनी तस्वीर की मानदंड को तय करते हैं, अगर आप इस बारे में और भी जानकारी चाहते हैं तो आप हमारे इस पोस्ट The exposure triangle in Hindi को जरूर पढ़ें, तो चलिए अब हम इन तीनों  मोड  के बारे में एक-एक करके समझने की कोशिश करते हैं।

ऑटो मोड ( ऑटो, प्रोग्राम):  ऑटो मोड जिसे प्रोग्राम मोड भी कहा जाता है इस मोड में कैमरा का सॉफ्टवेयर यह निर्धारित करता है की फोटो खींचते वक्त कैमरा का aperture, shutter speed और ISO वैल्यू कितना होगा, जब हम इस मोड़  पर फोटोग्राफी  करते हैं तो हम संपूर्ण प्रकार से कैमरा के सॉफ्टवेयर पर निर्भर रहते हैं , यहां मोड खासकर के वो लोग इस्तेमाल करते हैं  जिन्होंने अभी अभी फोटोग्राफी शुरू की है  यह फोटोग्राफी सीख रहे हैं।   पॉइंट एंड शूट कैमरा अथवा मोबाइल फोन के कैमरा अधिकतर ऑटो मोड में ही काम करते हैं।

सेमी ऑटो(एपर्चर प्राथमिकता और शटर प्राथमिकता) मोड:  जैसे कि आपको नाम से ही पता चल रहा होगा  यह ऑटो मोड और मैनुअल मोड के बीच वाली मोड़ है, इस मोड में फोटोग्राफर अपनी इच्छा अनुसार एपर्चर साइज या शटर स्पीड को कंट्रोल कर सकता है।  सेमी ऑटो मोड के दो भाग होते हैं एक एपर्चर प्राथमिकता मोड जिसमें फोटोग्राफर एपर्चर की साइज को खुद निर्धारित करता है और कैमरा का सॉफ्टवेयर  शटर स्पीड और ISO को निर्धारित करता है उसी प्रकार से शटर प्राथमिकता मोड में फोटोग्राफर  शटर स्पीड को निर्धारित करता है और कैमरा एपर्चर साइज और ISO को करता है।  यह मोड फोटोग्राफर विभिन्न प्रकार के परिवेश को ध्यान में रखकर चुनते हैं, इस मोड को प्रोफेशनल फोटोग्राफर या आरंभकर्ता फोटोग्राफी दोनों इस्तेमाल करते हैं।

मैनुअल मोड:  इस मोड में Aperture, Shutter स्पीड और ISO को फोटोग्राफर अपने हिसाब से निर्धारित करते है, इस मोड में कैमरा का संपूर्ण नियंत्रण फोटोग्राफर के पास होता है और वह अपनी इच्छा अनुसार इन तीनों तत्व को नियंत्रित करते हुए फोटोग्राफी करता है, यह मोड अधिकतर प्रोफेशनल फोटोग्राफर पसंद करते हैं क्योंकि उन्हें इस मोड के माध्यम से अपने रचनात्मक कला को प्रस्तुत करने का अवसर मिलता है, इस मोड को इस्तेमाल करने से पहले आपको एक्स्पोज़र ट्रायंगल के बारे में पता होना चाहिए। 

ऑटो मोड शूटिंग के कौन-कौन से फायदे हैं?

ऑटो मोड में  जब फोटोग्राफर शूटिंग करते हैं  तब उन्हें बहुत सारी टेक्निकल बातों की ध्यान रखने की जरूरत नहीं पड़ती है, कैमरा खुद अपने सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करके एक बेहतर फोटोग्राफ शूट करने की कोशिश करती है, इस मोड में आप  जल्दी से अपने कैमरा को इस्तेमाल करके फोटो खींच सकते हैं, DSLR या Mirrorless कैमरा के माध्यम से फोटोग्राफी करने का का यह सबसे आसान तरीका होता है।

मैनुअल मोड शूटिंग के कौन-कौन से फायदे हैं? 

मैनुअल मोड में फोटोग्राफी शूटिंग का सबसे बड़ा लाभ यह है कि यह आपको एपर्चर, ISO और शटर स्पीड पर रचनात्मक नियंत्रण करने देते हैं  जिस कारण फोटोग्राफर अपनी रचनात्मक सोच को  फोटोग्राफी के माध्यम से प्रस्तुत कर सकते हैं।  इस मोड को इस्तेमाल करने के लिए फोटोग्राफर को फोटोग्राफी के  कुछ मूल मानदंड का पता होना चाहिए। 

Aperture, Shutter speed और ISO क्या है?

अगर  हम  मैनुअल मोड मैं फोटोग्राफी करना चाहते हैं तो हमें Aperture, Shutter speed और ISO की जानकारी होना बहुत जरूरी है इन तीनों विषय के जानकारी के बगैर हम  इस मोड को अच्छी तरह से इस्तेमाल नहीं कर  पाएंगे, तो चलिए इन 3 फोटोग्राफी तत्व के बारे में  थोड़ी जानकारी प्राप्त कर लेते हैं।

aperture in photography

Aperture: Aperture एक  कैमरा लेंस की विशेषता है, Aperture के माध्यम से आप  कैमरा को यह निर्देश देते हैं की कितनी मात्रा में रोशनी आपके कैमरा सेंसर में पहुंचे,  अगर हम इसे सरल भाषा में समझाऊं तो यह एक प्रकार की खिड़की होती है जो कि हमारे लेंस के अंदर होती है, Aperture के विभिन्न आकार होते हैं  जिसे विभिन्न नंबर द्वारा अंकित  या जाता है उदाहरण के तौर पर f 1.2 से लेकर f 30  तक हो सकती है, Aperture  के यह अंक संपूर्ण  लेंस के विशेषताओं के ऊपर निर्भर करती है।

shutter speed in photography

Shutter Speed:  Shutter speed के माध्यम से हम यह सुनिश्चित करते हैं कि  कैमरा लेंस कि aperture कितने देर तक खुली रहेंगी,  इसका मतलब यह हुआ कि  फास्ट shutter speed  मैं कम रोशनी कैमरा के  सेंसर तक पहुंचेगी उसके विपरीत  धीरे shutter speed मै अधिक मात्रा में रोशनी कैमरा सेंसर तक पहुंचेंगे, जब हम  कम रोशनी में फोटोग्राफी करते हैं तो धीरे shutter speed  का इस्तेमाल करते हैं।

iso in photography

ISO: ISO  के माध्यम से हम यह सुनिश्चित करते हैं कि हमारे कैमरा का सेंसर रोशनी के प्रति कितना संवेदनशील होगा,  कम रोशनी मैं फोटोग्राफी करते वक्त हमें हमारे कैमरा की ISO को ज्यादा रखना पड़ता है,  हमारे डीएसएलआर कैमरा में ISO का स्तर 60 से लेकर 32000  या इससे भी  अधिक हो सकता है, पर आप यह जरूर समझ ले कि जितनी ज्यादा ISO  आप इस्तेमाल करेंगे आपकी तस्वीर में उतना ही ज्यादा डिजिटल नाइस आएगा जो आपके फोटो क्वालिटी को खराब कर सकती है। 

हमें उम्मीद है इस पोस्ट के माध्यम से अपने फोटोग्राफी के कुछ महत्वपूर्ण पहलुओं को समझ लिया होगा हमारी इस वेबसाइट में इस तरीके के और ही पोस्ट उपलब्ध है आप चाहे तो उन पोस्ट को भी पढ़ सकते हैं, अगर आपके कुछ सवाल है तो हमसे कमेंट बॉक्स में जरूर पूछें हम उनके उत्तर देने की प्रयास करेंगे।

 धन्यवाद

error

अगर ब्लॉग आप को अच्छी लगी तो ज़रूर इसे अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर के साथ शेयर करें.

error: सामग्री संरक्षित है !! (Content is protected !!)