समझने की कोशिश करेंगे की कलर व्हील (Color Wheel) क्या है

Notice: Undefined index: margin_above in /var/www/wp-content/plugins/ultimate-social-media-icons/libs/controllers/sfsiocns_OnPosts.php on line 619

Notice: Undefined index: margin_below in /var/www/wp-content/plugins/ultimate-social-media-icons/libs/controllers/sfsiocns_OnPosts.php on line 620

आज हम इस ब्लॉग के माध्यम से यह समझने की कोशिश करेंगे की कलर व्हील (Color Wheel) क्या है और यह किस तरह काम करती है?

नमस्कार दोस्तों

 आज हम इस ब्लॉग के माध्यम से यह समझने की कोशिश करेंगे की कलर व्हील (Color Wheel) क्या है और यह किस तरह काम करती है? 

कलर व्हील (Color Wheel) के माध्यम से आप विभिन्न रंगों  के संबंधों को समझ सकते हैं, कलर व्हील (Color Wheel)  को आप तीन वर्गों में विभाजित कर सकते हैं प्राथमिक, माध्यमिक और तृतीयक (मध्यवर्ती) वर्ग,  इन तीन अलग वर्ग के रंगों के बीच  की संबंधों को कलर व्हील (Color Wheel) प्रदर्शित करता है। आप कलर व्हील (Color Wheel)  का इस्तेमाल करके अपनी पसंद की विभिन्न रंगों  को विकसित कर सकते हैं। कलर व्हील (Color Wheel) जिसे कभी-कभी रंग चक्र (Color Circle)  भी कहा जाता है।

color wheel

आप कलर व्हील (Color Wheel) को विभिन्न सॉफ्टवेयर में इस्तेमाल करते हैं और अपनी तस्वीर यह वीडियो को रंगीन बनाते हैं आप कलर व्हील (Color Wheel) को फोटोशॉप अथवा DaVinci Resolve वीडियो एडिटिंग सॉफ्टवेयर में भी देख सकते हैं। आप इस कलर व्हील की समझ को अपनी  ऑयल पेंटिंग अथवा वाटर पेंटिंग बनाते वक्त भी इस्तेमाल कर सकते हैं ।

कलर व्हील में सभी प्रकार के  रंग मौजूद होते हैं आप इन विभिन्न प्रकार के रंगों को मिलाकर अपने पसंद के रंग बना सकते हैं। कलर व्हील आपको यह भी बताती है कि कौन सा रंग एक दूसरे के विपरीत या पूरक होती है और आप  इन रंगों का चुनाव करके अपनी तस्वीरों को  बेहतर बना सकते हैं।

तो चलिए अब हम यह समझ लेते हैं की प्राथमिक रंग, द्वितीयक रंग और तृतीयक रंग कौन-कौन से हैं?

 जैसे कि आप ने ऊपर  दी गई तस्वीर में देख सकते हैं की यह कलर व्हील के तीन अलग-अलग प्रकार के रंग हैं: प्राथमिक, द्वितीयक और तृतीयक रंग

  • तीन प्राथमिक रंग : लाल, पीला, नीला
  • तीन माध्यमिक रंग : नारंगी, हरा, बैंगनी
  • छह तृतीयक रंग : लाल-नारंगी, पीला-नारंगी, पीला-हरा, नीला-हरा, नीला-बैंगनी, लाल-बैंगनी, जो एक माध्यमिक के साथ एक प्राथमिक मिश्रण करके बनते हैं।

अब हमें यह समझ आ गई है कि रंगों की कौन से तीन वर्ग होते हैं और उन वर्गों में कौन से रंग मौजूद होते हैं। 

प्राथमिक रंग का अर्थ क्या है?

प्राथमिक रंग मूल रंग हैं जिन्हें अन्य रंगों के उत्पादन के लिए एक साथ मिलाया जा सकता है। उन्हें आमतौर पर लाल, पीला और नीला माना जाता है।

माध्यमिक रंग का अर्थ क्या है?

ये दो प्राथमिक रंगों के समान मिश्रण द्वारा बनाए गए रंग संयोजन हैं। रंग पहिया पर, माध्यमिक रंग प्राथमिक रंगों के बीच स्थित होते हैं। पारंपरिक रंग के पहिये के अनुसार, लाल और पीले रंग नारंगी बनाते हैं, लाल और नीले रंग बैंगनी बनाते हैं और नीले और पीले हरे बनाते हैं।

तृतीयक क्या रंग है?

तृतीयक रंग एक प्राथमिक रंग और एक द्वितीयक रंग के बराबर भागों को मिलाकर बनाया जाता है। छह तृतीयक रंग हैं: पीला-नारंगी, लाल-नारंगी, लाल-बैंगनी, नीला-बैंगनी, नीला-हरा और पीला-हरा।

इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों के लिए hue, saturation और luminance क्या है?

hue, saturation and luminance

Hue ह्यू  छवि के वास्तविक रंग रंगत से संबंधित है, saturation रंगों की परिपूर्णता से संबंधित है , luminance ल्यूमिनेंस छवि में एक निश्चित रंग की चमक से संबंधित है।

 दोस्तों हम उम्मीद करते हैं कि आपको इस ब्लॉग के माध्यम से  आपको कलर व्हील के बारे में समझने में आसानी हुई होगी। अगर आपको इस विषय के बारे में और भी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट सेक्शन में लिख सकते हैं हम कोशिश करेंगे कि आप को जल्दी से जल्दी उसका उत्तर दें। आप हमारी इस वेबसाइट मैं इस तरीके के और भी ब्लॉग पढ़ सकते हैं,  अगर आपको यह ब्लॉक पसंद आई तो आप जरूर इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर करना ना भूलें, इसी उम्मीद के साथ कि हम बहुत ही जल्दी फोटोग्राफी  यह  वीडियोग्राफी से  संबंधित नई ब्लॉक आपके साथ साझा करेंगे।

 नमस्कार

error

अगर ब्लॉग आप को अच्छी लगी तो ज़रूर इसे अपने दोस्तों और फैमिली मेंबर के साथ शेयर करें.

error: सामग्री संरक्षित है !! (Content is protected !!)